भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

यादें-धूप / सरस्वती माथुर

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 08:37, 26 अप्रैल 2012 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार= सरस्वती माथुर }} Category: हाइकु <poem> 11 धू...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

11
धूप -सी यादें
सूरज से उतरी
मन धरा पे
  12
मन -तितली
यादों के फूलों पर
मँडराती -सी
    13
मन लहरें
दरिया के पानी-सी
बहती यादें
   14
यादें बहकीं
छलकते जाम -सी
मन छलका
    15
मन आकाश
चमकती हैं यादें
चाँद तारों -सी
   16
 यादें अंकित
मन कैनवास पे
 तस्वीरों जैसी
    17
खामोश यादें
आँखों में आँसू बन
शाम -बरसीं
    18
यादों के लम्हें
साथ-साथ चलते
दोस्त हो गए
    19
स्वेटर बुना
यादों -भरी ऊन से
मन -सलाई
    20
 शहनाई -सी
मन की दुनिया में
गूँजती यादें