भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"यूँ तो सौ तरह की मुश्किल सुख़नी आए हमें / अब्दुल अहद 'साज़'" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=अब्दुल अहद 'साज़' |अनुवादक= |संग्रह...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)
 
(कोई अंतर नहीं)

16:09, 24 मार्च 2020 के समय का अवतरण

यूँ तो सौ तरह की मुश्किल सुख़नी आए हमें
पर वो इक बात जो कुहनी न अभी आए हमें

कैसे तोड़ें उसे जो टूट के मिलती हो गले
लाख चाहा कि रिवायत-शिकनी आए हमें

हर क़दम इस मुतबादिल से भरी दुनिया में
रास आए तो बस इक तेरी कमी आए हमें

प्यास बुझ जाए ज़मीं सब्ज़ हो मंज़र धुल जाए
काम क्या क्या न इन आँखों की तिरी आए हमें

देव-ए-अल्फ़ाज़ के चंगुल से छुड़ाने के लिए
आख़िर-ए-शब कोई मअना की परी आए हमें

फिर हमें क़त्ल करे शौक़ से बन पाए अगर
इक ग़ज़ल भर तो किसी शब कोई जी आए हमें

'साज़' ये शहर-नवर्दी में बिखरता हुआ दिन
सिमटे इक मोड़ तो याद उस की गली आए हमें