भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

यूँ माना ज़ि‍न्दगी है चार दिन की / फ़िराक़ गोरखपुरी