भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ये बहना डो ये बहना लेना डो / कोरकू

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 15:14, 1 फ़रवरी 2016 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{ KKLokRachna |रचनाकार= }} {{KKLokGeetBhaashaSoochi |भाषा=कोरकू }} <poem> ये बह...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

ये बहना डो ये बहना लेना डो
बुलवा ईन डायेन ये बहना डो
ये बहना बहना बुलवा डो ईन डायेन ये बहना डो
ये बहना बहना बुलवा डो ईन डाये ये डाई जा ये डाई
इयां उरान नी डायेन मारे कजली गाय नी कोनकेन मारे
ये डाई जा ये डाई इयां उरान जा कपली गेई जा
कोनकेन मारे ये बहना बुलवा डो
ईन डायेन ये बहना ये बहना ये बहना बहना बुलवा डो
ईन डायेन ये बहना डो ये बहना कपली गेई कोनकेन मारे
ये डाई जा ये डाई ईन भी से असली कोन्जई जा डाई
ये डाई जा झाडी टालटेन ईन उलडे मारे

स्रोत व्यक्ति - माखन, ग्राम - आमाखाल