भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ये बिगाड़ो लाँगुरिया / ब्रजभाषा

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 03:54, 27 नवम्बर 2015 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKLokRachna |रचनाकार=अज्ञात }} {{KKLokGeetBhaashaSoochi |भाषा=ब्रजभाष...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

नई-नई फैशन की जोगिन ने ये बिगाड़ौ लाँगुरिया॥ टेक॥
बिगाड़ौ लाँगुरिया, रे बिगाड़ौ लाँगुरिया॥ नयी-नयी.
पानी भरन को मैं चलूँ तो पीछे चल दे लाँगुरिया,
मेरे मन में ऐसी-ऐसी आवै कुआ ढकेलू लाँगुरिया॥
नयी-नयी फैशन की.
गोबर थापन मैं चलूँ तो पीछे चलदे लाँगुरिया,
मेरे मन में ऐसी-ऐसी आबै गोबर में थापूँ लाँगुरिया॥
नयी-नयी फैशन की.
रसोई तपन को मैं चलूँ तो पीछे आवै लाँगुरिया,
मेरेे मन में ऐसी-2 आवै बेलन से मारूँ लाँगुरिया॥
नयी-नयी फैशन की.
सेज पौढ़न को जब मैं जाऊँ पीछे से आवै लाँगुरिया,
मेरे मन में ऐसी-ऐसी आवै पलका से ढकेलूँ लाँगुरिया,
नयी-नयी फैशन की.