भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रविवार को ऐलीफ़ेण्टा (एक अंश) / ओक्ताविओ पाज़

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 18:51, 26 जून 2015 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=ओक्ताविओ पाज़ |अनुवादक=प्रयाग शु...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

शिव

सरिताएँ चार हैं
भुजाएँ तुम्हारी चार,
धाराएँ चार हैं
सारा अस्तित्व ही तुम्हारा
एक धारा है,
जिसमें नहाती लावण्यमयी पार्वती
जिसमें वह डोलतीं, गरिमामय शिल्प बन ।
सागर धड़कता है सूरज के नीचे
खुले होंठ शिव मुस्कराते हैं;
सागर है लम्बी एक चादर लपट की
जल पर हैं चरण-चिह्न तिरते,
पार्वती के ।

शिव और पार्वती

स्त्री जो पत्नी है मेरी,
और मैं,
कुछ भी हैं तुमसे न माँगते,
कुछ भी नहीं --
एक और लोक से :
मात्र यही
सागर पर का प्रकाश,
सागर पर नंगे पाव रश्मियाँ;
और निद्रित भूमि यह ।