Last modified on 11 अगस्त 2020, at 13:24

रस में डूब हुआ लहराता बदन क्या कहना / फ़िराक़ गोरखपुरी