भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

राइ जमाइन दादी निहूछे देखियो रे कोइ नजरी न लागे / मगही

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 17:27, 28 जुलाई 2015 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKLokRachna |भाषा=मगही |रचनाकार=अज्ञात |संग्रह= }} {{KKCatMagahiR...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मगही लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

राइ[1] जमाइन[2] दादी निहूछे[3] देखियो रे कोइ नजरी न लागे।
सँभरियो[4] रे कोइ नजरी न लागे॥1॥
राइ जमाइन मइया निहूछे, देखियो रे कोइ नजरी न लागे।
सँभरियो रे कोइ नजरी न लागे॥2॥
राइ जमाइन चाची निहूछे, देखियो रे कोइ नजरी न लागे।
सँभरियो रे कोइ नजरी न लागे॥3॥
राइ जमाइन भउजी निहूछे, देखियो रे कोई नजरी न लागे।
सँभरियो रे कोइ नजरी न लागे॥4॥

शब्दार्थ
  1. छोटी सरसों, जो कुछ बैंगनी रंग की होती है
  2. अजवायन, एक प्रसिद्ध पौधा; जिसके दाने दवा और मसाले के काम में आते हैं
  3. निछावर करती हैं, एक प्रकार का टोटका
  4. सँभालना