भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

राख और भस्म / जय गोस्वामी / रामशंकर द्विवेदी

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 18:42, 5 सितम्बर 2019 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=जय गोस्वामी |अनुवादक=रामशंकर द्व...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

इस समय
अपने से प्रश्न कर पूछता हूँ —

विचार कर देखो
लोग क्या कहेंगे
क्या नहीं कहेंगे

सिर्फ़ यही बात
सोचते-सोचते
जीवन के अवशिष्ट दिनों को

क्या राख और भस्म में
मिल जाने दोगे ?

मूल बाँगला भाषा से अनुवाद : रामशंकर द्विवेदी