Last modified on 24 नवम्बर 2008, at 01:56

राजकुमारी, मुझे उंगली पकड़ कर ले चलो / गुन्नार एकिलोफ़

अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 01:56, 24 नवम्बर 2008 का अवतरण (नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=गुन्नार एकिलोफ़ |संग्रह=मुश्किल से खुली एक खिड...)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)

राजकुमारी, मुझे उंगली पकड़कर ले चलो
आओ कि हम चलें अब
गुज़रें उर्वर अर्धचन्द्र से
लौटें अपनी ज़मीं पर

कोई नहीं पहुँचा सकता हमें क्षति
और हम भी नहीं किसी को

अंधे हो जाने से और बढ़ती है बीनाई
जब तक कि सब रोशन नहीं हो जाता
प्रकाश स्मृति का ।