भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रास्ता चलते यूँ ही / ओरहान वेली

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 03:52, 2 जनवरी 2011 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: ओरहान वेली  » रास्ता चलते यूँ ही

रास्ता चलते
यूँ ही
अचानक अहसास होता है
अपने मुस्कराने का

पागल समझते होंगे
लोगबाग मुझे
मुस्कराहट और बढ़ जाती है
इस एहसास के साथ ।

अँग्रेज़ी से अनुवाद : मनोज पटेल