भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रास्ते में वो मिला अच्छा लगा / शीन काफ़ निज़ाम

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 13:39, 22 अगस्त 2009 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रास्ते में वो मिला अच्छा लगा
सूना-सूना रास्ता अच्छा लगा

अपना चेहरा आज क्या अच्छा लगा
बाद-ए-मुद्दत आईना अच्छा लगा

उस ने जाने क्या कहा, अच्छा लगा
रुकते-रुकते बोलना अच्छा लगा

कितने शिक़वे थे मुझे तक़दीर से
आज किस्मत का लिखा अच्छा लगा

मुझ में क्या है, मुझ को कब मालूम है
वो ही जाने उस को क्या अच्छा लगा

उसकी सूरत से लगा मुझ को "निज़ाम"
उस को मेरा देखना अच्छा लगा