भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रेत पर जितने भी नविश्ते हैं / शीन काफ़ निज़ाम

Kavita Kosh से
Shrddha (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 20:50, 6 जनवरी 2010 का अवतरण (नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=शीन काफ़ निज़ाम |संग्रह=सायों के साए में / शीन का…)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रेट पर जितने भी नविश्ते हैं
अपने माहौल के मुजल्ले हैं

कौन जाने कहाँ दफीने हैं
अपने पास तो सिर्फ़ नक्शे हैं

सूरतें छीन ले गया कोई
इस दफा आईने अकेले हैं

ख़्वाब ख़ुशबू ख़्याल और ख़दशे
एक दीवार सौ दरीचे हैं

दोस्ती इश्क़ और वफ़ादारी
सख्तजाँ में भी नर्म गोशे हैं

पढ़ सको तो कभी पढ़ो उन को
शाख़-दर-शाख़ भी सफ़ीहे हैं

जुगनुओं के परों से लिक्खे हुए
जंगलों में कई जरीदे हैं