भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

"रौशनी को राजमहलों से निकाला चाहिये / महावीर उत्तरांचली" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=महावीर उत्तरांचली |अनुवादक= |संग्...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)
 
 
पंक्ति 7: पंक्ति 7:
 
{{KKCatGhazal}}
 
{{KKCatGhazal}}
 
<poem>
 
<poem>
 +
रौशनी को राजमहलों से निकाला चाहिये
 +
देश में छाये तिमिर को अब उजाला चाहिये
  
 +
सुन सके आवाम जिसकी, आहटें बेख़ौफ़ अब
 +
आज सत्ता के लिए, ऐसा जियाला चाहिये
 +
 +
निर्धनों का ख़ूब शोषण, भ्रष्ट शासन ने किया
 +
बन्द हो भाषण फ़क़त, सबको निवाला चाहिये
 +
 +
सूचना के दौर में हम, चुप भला कैसे रहें
 +
भ्रष्ट हो जो भी यहाँ, उसका दिवाला चाहिये
 +
 +
गिर गई है आज क्यों इतनी सियासत दोस्तो
 +
एक भी ऐसा नहीं, जिसका हवाला चाहिये
 
</poem>
 
</poem>

03:16, 12 अक्टूबर 2016 के समय का अवतरण

रौशनी को राजमहलों से निकाला चाहिये
देश में छाये तिमिर को अब उजाला चाहिये

सुन सके आवाम जिसकी, आहटें बेख़ौफ़ अब
आज सत्ता के लिए, ऐसा जियाला चाहिये

निर्धनों का ख़ूब शोषण, भ्रष्ट शासन ने किया
बन्द हो भाषण फ़क़त, सबको निवाला चाहिये

सूचना के दौर में हम, चुप भला कैसे रहें
भ्रष्ट हो जो भी यहाँ, उसका दिवाला चाहिये

गिर गई है आज क्यों इतनी सियासत दोस्तो
एक भी ऐसा नहीं, जिसका हवाला चाहिये