भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रौशन कहीं बहार के इम्काँ हुये तो हैं / फ़ैज़ अहमद फ़ैज़

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 19:06, 25 दिसम्बर 2019 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रौशन कहीं बहार के इम्काँ हुये तो हैं
गुलशन में चाक चंद गरेबाँ हुये तो हैं

अब भी ख़िज़ाँ का राज है लेकिन कहीं कहीं
गोशे रह्-ए-चमन में ग़ज़ल-ख़्वाँ हुये तो हैं

ठहरी हुयी है शब की सियाही वहीं मगर
कुछ कुछ सहर के रंग पर-अफ़्शाँ हुये तो हैं

इन में लहू जला हो हमारा के जान-ओ-दिल
महफ़िल में कुछ चिराग़ फ़रोज़ाँ हुये तो हैं

हाँ कज करो कुलाह के सब कुछ लुटा के हम
अब बे-नियाज़-ए-गर्दिश-ए-दौरां हुये तो हैं

अहल-ए-क़फ़स की सुबह-ए-चमन में खुलेगी आँख
बाद-ए-सबा से वदा-ए-पैमाँ हुये तो हैं

है दश्त अब अभी दश्त मगर ख़ून-ए-पा से "फ़ैज़"
सैराब चंद ख़ार-ए-मुग़ेलाँ हुये तो हैं