भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

"लड़ना जरूरी है / पंकज चौधरी" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=पंकज चौधरी |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KKCatKav...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)
 
(कोई अंतर नहीं)

16:46, 10 जुलाई 2018 के समय का अवतरण

लड़ो
क्योंकि लोगों ने लड़ना छोड़ दिया है

लड़ो
क्योंकि बगैर लड़े कुछ नहीं मिलता

लड़ो
क्योंकि बगैर लड़े घुट-घुटकर जीना पड़ता है

लड़ो
क्योंकि अभी तक तुम्हें जो कुछ भी मिला है
लड़कर ही मिला है

लड़ो
क्योंकि लड़ने वाले का इंतजार होता है

लड़ो
क्योंकि नहीं लड़ने से ही जंगलराज कायम होता है

लड़ो
क्योंकि बगैर लड़े इंसान पिट्ठू बन जाता है

लड़ो
क्योंकि जो लड़ेगा वही बचेगा

लड़ो
क्योंकि बगैर लड़े
इंसान को अंधा, बहरा, गूंगा और लूला माना जाता है

लड़ो
क्योंकि नहीं लड़ोगे तो लोग तुम्हें खा लेंगे

लड़ो
क्योंकि बगैर लड़े अग्नि स्वर्ग से पृथ्वी पर नहीं लाई जाती

लड़ो
क्योंकि तुम्हारे पास खोने के लिए कुछ भी नहीं

लड़ो
क्योंकि पाने के लिए ही तुम्‍हारे पास सारा जहान है।