भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

लाई वी न गई ते निभाई वी न गई / पंजाबी

Kavita Kosh से
Sandeep Sethi (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 05:19, 26 फ़रवरी 2010 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

लाई वी ना गई ते निभाई वी ना गई,
मेणे मारदा जहान मैँनू सारा,
तेरी मेरी यों टुट गई, सोणिए!
जिवें टुटया अम्बर चो तारा।
 
सोच्च्या नहीं सी मेरा प्यार भुल जाएँगी,
एन्ने कीते होए करार भुल जाएँगी,
करार भूल जाएँगी,
दिल मिल के बिछड़ गया यारा,
तेरी मेरी यों टुट गई, सोणिए!
जिवें टुटया अम्बर चों तारा।
 
सच्चा रब्ब राक्खा, मुहँ मोड़ जाण वालिये
दिल लै के मेरा दिल तोड़ जाण वालिये
हाय दिल टुटया न जुड़े दुबारा
तेरी मेरी यों टुट गई, सोणिए!
जिवें टुटया अम्बर चों तारा।

लाई वी न गई ते निभाई वी न गई,
मेणे मारदा जहान मैंनू सारा,
तेरी मेरी यों टुट गई, सोणिए!
जिवें टुटया अम्बर चों तारा।