Last modified on 13 अप्रैल 2016, at 14:26

लेखनी के पास हस्ताक्षर नहीं है / शिव ओम अम्बर

Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 14:26, 13 अप्रैल 2016 का अवतरण ('{{KKRachna |रचनाकार=शिव ओम अम्बर |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KKCatGhazal}} <po...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)

लेखनी के पास हस्ताक्षर नहीं है,
यक्ष-प्रश्नों के लिये उत्तर नहीं है।

अग्निगर्भा कोख बंध्या लग रही है,
अक्षरों के वंश में दिनकर नहीं है।

ये न पूछें काफिला है किस जगह पे,
इस डगर पे मील का पत्थर नहीं है।

राजधानी में छिड़ी है बीन जबसे,
बाँबियों में एक भी विषधर नहीं है।