Last modified on 21 नवम्बर 2013, at 07:28

वक़्त जब राह की दीवार हुआ / अज़ीज़ अहमद खाँ शफ़क़

सशुल्क योगदानकर्ता ३ (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 07:28, 21 नवम्बर 2013 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=अज़ीज़ अहमद खाँ शफ़क़ }} {{KKCatGhazal}} <poem> व...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)

वक़्त जब राह की दीवार हुआ
कोई सैलाब नुमूदार हुआ

उस ने पेड़ों से हटा ली शाख़ें
बाग़ में से तू कई बार हुआ

मैं ने जो दिल में छुपाना चाहा
मेरे चेहरे से नुमूदार हुआ

साहिली-शाम का फैला मंज़र
कुछ लकीरों में गिरफ़्तार हुआ

रात इक शख़्स बहुत याद आया
जिस घड़ी चाँद नुमूदार हुआ