भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

वसन्त का गीत / रमेश रंजक

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 12:12, 19 अगस्त 2014 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=रमेश रंजक |अनुवादक= |संग्रह= रमेश र...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बढ़ने लगी धूप की तेज़ी
पढ़ने लगी हवा अँग्रेज़ी
            आए दिवस गुलाब के
            हिन्दी और हिसाब के ।।

कोयल रटने लगी पहाड़े
बैठ आम की डाल पर
याद हमें भी तो करने हैं
अपने सबक सम्भाल कर
            खेल-कूद में डूब न जाएँ
            अक्षर कहीं क़िताब के ।
            हिन्दी और हिसाब के ।

लाल हरे रंगों से भर दीं
मौसम ने फुलवारियाँ
चित्रकला की कॉपी जैसी
लगी दीखने क्यारियाँ
            हम भी फूल सरीखे महकें
            मेहनत कर लें दाब के ।
            आए दिवस गुलाब के ।।