भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

विख्यानत होना होता नहीं सुंदर / बरीस पास्तेरनाक

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 11:58, 2 नवम्बर 2013 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=बरीस पास्तेरनाक |अनुवादक= |संग्रह...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

विख्‍यात होना होता नहीं सुंदर
यह वह चीज नहीं जो उठाती हो ऊपर,
जरूरत नहीं अभिलेखागार स्‍थापित करने की
सिर खपाने की पाण्‍डुलिपियों पर

सृजन का उद्देश्‍य है आत्‍म विसर्जन
न कि सनसनी या सफलता।
शर्मनाक है होना बिना अर्थवत्‍ता के
बन जाता हर आदमी के लिए एक नीति कथा।

हमें जीना चाहिए पाखण्‍ड मुक्‍त
इस तरह कि सुन सकें
भविष्‍य की आहट
और आकर्षित कर सकें संसार के प्रेम को।

कागज पर नहीं,
नियतियों के बीच छोड़नी चाहिए खाली जगह
पूरे जीवन के अध्‍याय और स्‍थान
निर्धारित करते हुए हाशियों पर।

खो जाना चाहिए कहीं ख्‍यातिहीनता में
छिपा देने चाहिए उसमें अपने सब पदचिह्न
छिप जाती है जिस तरह
जगहें अंधकार में।

दूसरे लोग चलेंगे
एक-एक इंच तुम्‍हारी राह पर।
पर अलग कर के मत देखो
अपनी जीत को अपनी हार से।

तनिक भी हटना नहीं चाहिए पीछे
एक भी इंच अपने आप से,
बने रहना चाहिए जीवन्‍त, केवल जीवन्‍त,
अंतिक क्षण तक।