भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

विषुवत रेखा / निर्मला सिंह

Kavita Kosh से
Dr. ashok shukla (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 02:18, 19 दिसम्बर 2018 का अवतरण ('{{KKRachna |रचनाकार=निर्मला सिंह |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KKCatBaalKavita...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सूर्य पैंतालीस डिग्री का
कोण बनाता है
मुझ पर
क्योंकि मैं कभी
कर्क रेखा बन जाती हूँ
तो कभी मकर रेखा,
नहीं बन पाई अब तक
एक बार भी विषुवत् रेखा
जो बाँट दे
ज़िन्दगी को दो बराबर भागों में,
सुख-दुख की
जहाँ उगते हों सुख के
सदाबहार वन
पड़ती हो खुशियों की
चमकती धूप
वृक्षों की फुन्गियों पर।