भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

वे कभी नहीं जान पायेंगे / सेरजिओ बदिल्ला / रति सक्सेना

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 14:00, 2 दिसम्बर 2013 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=सेरजिओ बदिल्ला |अनुवादक=रति सक्स...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

वे कभी नहीं जान पायेंगे कि रात को क्या हुआ जब
तुम देह को सहलाते अँधेरे में पनाह ले रहे थे
जब कि खिड़की में सड़क आसमान तक
पसरी पड़ी थी
ऐसी कोई राह नहीं थी जो ब्रह्मांड के भूलभुलैये में
छोटी गली ना पकड़ती हो
छालों से भरे उनके दैविक पदचिह्न बर्फ पर फिसल रहे थे
और मस्त्य अपने को दलदली चट्टानों पर चिह्नित कर रही थीं
वे नहीं जानते थे कि क्या होगा
उस रात जब वे रेंगते कीड़ों वाली धर्मशाला में पनाह ले रहे थे
जब आग ने अपनी कालिख राख
तुम्हारे सीने के रहस्यों पर डाल दी