भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

वे रहे हू-ब-हू वैसे ही जैसे वे थे / निकानोर पार्रा / श्रीकान्त दुबे

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 04:53, 1 जनवरी 2019 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=निकानोर पार्रा |अनुवादक=श्रीकान...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

उन्होंने चान्द को पूजा -- लेकिन थोड़ा कम
उन्होंने टोकरियाँ बनाईं लकड़ियों की
गीत और धुनों से ख़ाली थे वे
खड़े-खड़े किए बेलौस प्यार
अपने मृतकों को दफ़नाया भी खड़े ही
वे रहे, हू-ब-हू वैसे ही, जैसे वे थे।

मूल स्पानी भाषा से अनुवाद : श्रीकान्त दुबे