भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"वो गुनगुनाते रास्ते ख़्वाबों के क्या हुए / शीन काफ़ निज़ाम" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
(नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=शीन काफ़ निज़ाम }} Category:गज़ल <poem> वो गुनगुनाते रास...)
 
पंक्ति 2: पंक्ति 2:
 
{{KKRachna
 
{{KKRachna
 
|रचनाकार=शीन काफ़ निज़ाम
 
|रचनाकार=शीन काफ़ निज़ाम
 +
|संग्रह=सायों के साए में / शीन काफ़ निज़ाम
 
}}
 
}}
[[Category:गज़ल]]
+
{{KKCatGhazal‎}}‎
 
<poem>
 
<poem>
 
वो गुनगुनाते रास्ते ख़्वाबों के क्या हुए
 
वो गुनगुनाते रास्ते ख़्वाबों के क्या हुए

13:42, 22 अगस्त 2009 का अवतरण

वो गुनगुनाते रास्ते ख़्वाबों के क्या हुए
वीरान क्यूँ हैं बस्तियाँ बाशिंदे क्या हुए

वो जागती जबीनें कहाँ जा के सो गईं
वो बोलते बदन जो सिमटते थे क्या हुए

जिन से अंधेरी रातों में जल जाते थे दीए
कितने हसीन लोग थे क्या जाने क्या हुए

ख़ामोश क्यूँ हो कोई तो बोलो जवाब दो
बस्ती में चार चाँद से चेहरे थे क्या हुए

हम से वो रतजगों की अदा कौन ले गया
क्यूँ वो अलाव बुझ गये वो क़िस्से क्या हुए

पूरे थे अपने आप में आधे अधूरे लोग
जो सब्र की सलीब उठाते थे क्या हुए

मुमकिन है कट गये हों वो मौसम की धार से
उन पर फुदकते शोख परिंदे थे क्या हुए

किसने मिटा दिए हैं फ़सीलों के फ़ासले
वाबस्ता जो थे हम से वो अफ़साने क्या हुए

खम्भों पे लाके किसने सितारे टिका दिए
दालान पूछते हैं कि दीवाने क्या हुए

उँची इमारतें तो बड़ी शानदार हैं
पर इस जगह तो रैन बसेरे थे क्या हुए