भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

वो मुसाफ़िर जो थक गया होगा / ज़िया फतेहाबादी

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 01:20, 27 मार्च 2011 का अवतरण (नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=ज़िया फतेहाबादी |संग्रह= }} {{KKCatGhazal‎}}‎ <poem> वो मुसाफ़…)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

वो मुसाफ़िर जो थक गया होगा,
रास्ते से भटक गया होगा ।

गुन्चा-गुन्चा चटक गया होगा,
गोशा-गोशा महक गया होगा ।

आहटें नर्म-नर्म पत्तों की,
पेड़ पर आम पक गया होगा ।

डाल कर फन्दा अपनी गरदन में,
कोई छत से लटक गया होगा ।

मुड़ के देखा जो तू ने लोगों को,
मेरी नज़रों पे शक गया होगा ।

उसकी उँगली पकड़ के चलता था,
हाथ मेरा झटक गया होगा ।

अरे अहसास-ए तिशनगी तौबा,
कोई साग़र ख़नक गया होगा

गिरता पड़ता ये जादा-ए पुरपेच
ऐ ’ज़िया’ दूर तक गया होगा ।