भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"शजर की सरपरस्ती माँगता है / विजय राही" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=विजय राही |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KKCatGhazal...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)
 
(कोई अंतर नहीं)

12:28, 25 मार्च 2020 के समय का अवतरण

शजर की सरपरस्ती माँगता है ।
परिन्दा एक टहनी माँगता है ।

उतर कर वो मेरी आँखों के रस्ते,
मक़ाने-दिल की चाबी माँगता है ।

मेरे लहजे पे दरिया बोल उठ्ठा,
कोई ऐसे भी पानी माँगता है...?

पकड़ लेता है दिल ही हाथ वरना,
गला मेरा तो रस्सी माँगता है ।

कभी जब वस्ल की होती है बातें,
वो मुझसे रात सारी माँगता है ।

मेरा दिल भी फ़कीरों की तरह है,
ये सहराओं से पानी माँगता है ।

वो जब आनी है, तब आयेगी 'राही',
तू क्यों पटरी पे गाडी माँगता है ।