भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

शब्द / महेंद्रसिंह जाडेजा

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 18:59, 13 सितम्बर 2010 का अवतरण (नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=महेंद्रसिंह जाडेजा |संग्रह= }} [[Category: गुजराती भाषा…)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

शब्द
अनायास कभी तो
चले आते हैं होठों पर
और कभी
लाख कोशिश करो तो भी
हाथ नहीं आते ।

शब्दों का चेहरा
कभी तो आता है नज़र
और कभी
लाख कोशिश करो तो भी
हाथ नहीं आता ।

धुँधले,
अस्पष्ट,
ख़ूब सांकल खटखटाओ
फिर भी किवाड़ न खुले
यूँ शब्द जमे ही रहते हैं ।

कभी समंदर की तरह गरज़ते हैं
और कभी लाख कोशिश करो
तब भी नहीं बोलते ।



मूल गुजराती भाषा से अनुवाद : क्रान्ति