भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

श्याम मोते खेलौ न होरी / ब्रजभाषा

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 03:48, 27 नवम्बर 2015 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKLokRachna |रचनाकार=सूरदास }} {{KKLokGeetBhaashaSoochi |भाषा=ब्रजभाष...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: सूरदास

पा लागूँ कर जोरी, श्याम मोते खेलौ न होरी॥ टेक
गौएं चरायन को निकली हूँ, सास-ननद की चोरी।
चुनरी मोरी रंग में न बोरो, इतनी अरज सुनो मोरी,
करौ न बहियाँ झकझोरी॥ 1॥

छीन-छपट मोरे हाथ से गागर, जोर ते बहियाँ मरोरी,
दिल धड़कत है सांस चढ़ते है, देह कंपति सब मोरी,
दुख नहिं जात कहौ री॥ 2॥

अबीर गुलाल लपेटि गयौ मुखसे, सारी सुरंग रंग बोरी।
सासु हजारन गारी दइहै, बालम जियत न छोरी,
हृदय आतंक छयौ री॥ 3॥

फाग खेल कै तैनें रे मोहन, कीनी का गति मोरी॥
‘सूरदास’ मोहन छबि लखिकै, अति आनन्द भयौ री,
सदा उर बास करौ री॥ 4॥