भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

संग चलूँगी उड़ने जहाज में / ब्रजभाषा

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 03:53, 27 नवम्बर 2015 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKLokRachna |रचनाकार=अज्ञात }} {{KKLokGeetBhaashaSoochi |भाषा=ब्रजभाष...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

वारे लाँगुरिया संग चलूँगी उड़ने जहाज में,
कोई बैठूँ ना मोटर कार॥ टेक॥
वारे लाँगुरिया वा दिन गयौ तू भूलिकै,
कोई लिख-2 भेजे तैंने तार॥ 2॥
वारे लाँगुरिया अब न आऊँ तेरे फन्दे में,
कोई लीजो सोच विचार॥ 3॥
वारे लाँगुरिया वायदे तिहारे झूठे पड़ि रहे,
अब है गई हूँ मैं हुशियार॥ 4॥
वारे लाँगुरिया ‘प्रभु’ तौ बिठावै उड़ने जाहज में,
वोई बेड़ा लगावे पल्लीपार॥ 5॥