Last modified on 3 अप्रैल 2021, at 00:07

सज गयी रे दुल्हनिया / रामकृपाल गुप्ता

सशुल्क योगदानकर्ता ५ (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 00:07, 3 अप्रैल 2021 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=रामकृपाल गुप्ता |अनुवादक= |संग्रह...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)

सज गई रे दुल्हनिया सज गई रे
तेरी बिंदिया, तेरा ही कजरा
तेरी लाली, तेरा ही गजरा
तेरे रंग में चुनरिया संवर गई रे
सज गई...
तेरा घुँघरू, तेरी पैंजनिया
छम छम नांचे राम तेरी रनिया
बिना फूँके बंसुरिया बज गई रे
सज गई रे...
पिया की सेज, पिया का ओढ़ना
पिया संग सोना, पिया संग रहना
पिया बहियाँ सिमट गई रज गई रे
सज गई रे...