भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

सताइश-गर है ज़ाहिद इस क़दर / ग़ालिब

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सताइश[1]-गर है ज़ाहिद[2] इस क़दर जिस बाग़े-रिज़वां[3] का
वह इक गुलदस्ता है हम बेख़ुदों के ताक़े-निसियां[4] का

बयां क्या कीजिये बेदादे-काविश-हाए-मिज़गां[5] का
कि हर इक क़तरा-ए-ख़ूं दाना है तस्बीहे-मरजां[6] का
 
न आई सतवते-क़ातिल[7] भी मानअ़[8] मेरे नालों[9] को
लिया दांतों में जो तिनका, हुआ रेशा[10] नैस्तां[11] का

दिखाऊंगा तमाशा, दी अगर फ़ुरसत ज़माने ने
मेरा हर दाग़-ए-दिल इक तुख्म[12] है सर्व[13]-ए-चिराग़ां का
 
किया आईनाख़ाने का वो नक़्शा तेरे जल्वे ने
करे जो परतव[14]-ए-ख़ुरशीद-आलम[15] शबनमिस्तां[16] का

मेरी तामीर[17] में मुज़्मिर[18] है इक सूरत ख़राबी की
हयूला[19] बरक़-ए-ख़िरमन[20] का है ख़ून-ए-गरम दहक़ां[21] का

उगा है घर में हर-सू[22] सब्ज़ा[23], वीरानी, तमाशा कर
मदार[24] अब खोदने पर घास के, है मेरे दरबां का

ख़मोशी में निहां[25] ख़ूंगश्ता[26] लाखों आरज़ूएं हैं
चिराग़-ए-मुरदा[27] हूं मैं बेज़ुबां गोर-ए-ग़रीबां[28] का

हनूज़[29] इक परतव-ए-नक़्श-ए-ख़याल-ए-यार[30] बाक़ी है
दिल-ए-अफ़सुर्दा[31] गोया हुजरा[32] है यूसुफ़ के ज़िन्दां[33]का

बग़ल में ग़ैर की आप आज सोते हैं कहीं, वरना
सबब[34] क्या? ख़्वाब में आकर तबस्सुम-हाए-पिनहां[35] का

नहीं मालूम किस-किसका लहू पानी हुआ होगा!
क़यामत है सरश्क-आलूदा होना[36] तेरी मिज़गां[37] का

नज़र में है हमारी जादा-ए-राह-ए-फ़ना[38] ग़ालिब
कि ये शीराज़ा[39] है आ़लम के अज्जाए-परीशां[40] का

शब्दार्थ
  1. प्रशंसक
  2. तपस्वी
  3. स्वर्ग का बाग
  4. भुलककड़ों का आला
  5. पलकों की चुभन की बे-इंसाफी
  6. मूंगे की माला
  7. हत्यारे का आंतक
  8. रोकने वाला
  9. रुदन
  10. जड़
  11. बांस का जंगल
  12. बीज
  13. पेड़
  14. हाल
  15. सूरज की किरण पड़ना
  16. ओस की दुनिया
  17. निर्माण
  18. निहित, छुपी हुई
  19. छवि
  20. फसल पर गिरने वाली बिजली
  21. किसान
  22. हर तरफ़
  23. घास-फूस
  24. नींव
  25. छुपा हुआ
  26. ख़ून की हुई
  27. बुझा हुआ चिराग
  28. ग़रीब की कब्र
  29. अभी
  30. प्रेयसी के विचार-चिन्ह का प्रतिबिम्ब
  31. उदास-ठंडा दिल
  32. कोठरी
  33. कैदखाना
  34. मतलब
  35. हल्की-सी मुस्कराहट
  36. आंसुओं में भीगना
  37. पलकों
  38. मृत्यु का मार्ग
  39. बांधने की डोरी
  40. बिखरे हुए कण