Last modified on 13 अप्रैल 2016, at 14:29

सत्यता की सनद कीजिये / शिव ओम अम्बर

सत्यता की सनद कीजिये,
शब्द को उपनिषद् कीजिये।

सृष्टि ये नित्य साकेत है,
दृष्टि अपनी विशद कीजिये।

रह सकें मित्र भी, शत्रु भी,
हद हृदय की वृहद् कीजिये।