भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"सदस्य:Kavyana" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
(नया पृष्ठ: मेरे मन की व्यथा कथा है ये मेरा कविता का जग कथा व्यर्थ है व्यथा मर…)
 
छो
 
पंक्ति 3: पंक्ति 3:
 
कथा व्यर्थ है व्यथा मर्त्य है  
 
कथा व्यर्थ है व्यथा मर्त्य है  
 
सनातन ये दुनिया ये जग (१)
 
सनातन ये दुनिया ये जग (१)
 +
 +
मखमली सी ज़मी धरती की
 +
आस्मां का नीला ये बदन
 +
स्थान कहाँ है  व्यथा कथा का
 +
मुखरित हो सारा जीवन

08:28, 15 मार्च 2010 के समय का अवतरण

मेरे मन की व्यथा कथा है ये मेरा कविता का जग कथा व्यर्थ है व्यथा मर्त्य है सनातन ये दुनिया ये जग (१)

मखमली सी ज़मी धरती की आस्मां का नीला ये बदन स्थान कहाँ है व्यथा कथा का मुखरित हो सारा जीवन