भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सदस्य:Kavyana

Kavita Kosh से
Kavyana (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 08:28, 15 मार्च 2010 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मेरे मन की व्यथा कथा है ये मेरा कविता का जग कथा व्यर्थ है व्यथा मर्त्य है सनातन ये दुनिया ये जग (१)

मखमली सी ज़मी धरती की आस्मां का नीला ये बदन स्थान कहाँ है व्यथा कथा का मुखरित हो सारा जीवन