भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"सन्देश अभय का / अर्चना कुमारी" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=अर्चना कुमारी |अनुवादक= |संग्रह=प...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)
 
 
पंक्ति 6: पंक्ति 6:
 
}}
 
}}
 
{{KKCatKavita}}
 
{{KKCatKavita}}
{{KKCatMahilaRachnakaar}}
 
 
<poem>
 
<poem>
 
जब भी कोई
 
जब भी कोई
 
पीठ कर देता है चेहरे के सामने
 
पीठ कर देता है चेहरे के सामने
डर लगता है...
+
डर लगता है
 
करवट बदल कर सो जाना किसी का
 
करवट बदल कर सो जाना किसी का
 
नींद तब चबाती है निर्भयता
 
नींद तब चबाती है निर्भयता

13:19, 11 दिसम्बर 2017 के समय का अवतरण

जब भी कोई
पीठ कर देता है चेहरे के सामने
डर लगता है
करवट बदल कर सो जाना किसी का
नींद तब चबाती है निर्भयता
औपचारिकताओं की चहलकदमी
फासले कम नहीं करती
दूरियां बड़बड़ाती हैं
नींद में चलते हुए
सब कुछ पहले जैसा हो जाना
गांठों के बाद
कितनी तहों का कारीगर
पीछे पलट कर देखने पर
परछाईंयां के सांप
न पांव धरने देतीं, न मुक्त ही करतीं
पलक की पिटारी खुलते ही
थोड़ी ताजा हवा आती है
आशाओं के देश से
संदेश लेकर अभय का।