भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सपने में आए भरतार / ब्रजभाषा

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 03:57, 27 नवम्बर 2015 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKLokRachna |रचनाकार=अज्ञात }} {{KKLokGeetBhaashaSoochi |भाषा=ब्रजभाष...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

सपनौ तौ देखौ बहना मेरी रात में जी
ऐजी कोई सपने में आये भरतार॥ 1॥ सपनौ तौ.
घोड़ा है बाँधो बहना मेरी थान पै री
ऐरी मेरे आये हैं महल मझार॥ 2॥
पाँचों उतारे पियाजी ने कापड़े जी
एजी कोई खोलि धरे हथियार॥ 3॥
अचक-पचक तो पलका पै पग धरौजी
ऐजी मैं लीनी झटकि जगाय॥ 4॥
उंगली पकरि के बैठी मोय कर लई जी
एजी कोई हँसि हँसि पूछी बात॥ 5॥
प्रेम तौ बाढ़ौ जागो रस काम कौ जी
ऐसी मेरे डाली है गले में बाँह॥ 6॥
इतने ही में नैना मेरे खुल गये जी
एजी यहाँ ते कित गये दाबादार॥ 7॥
कहनि सुननि तो बहना कछु ना भई री
एजी कोई रूठि गये भरतार॥ 8॥
प्यारे पिया बिन बहना कल ना पड़े जी,
एजी मोय सामन नाँहि सुहाय॥ 9॥
कर्म लिखौ सो बहना मेरी है गयो री
एजी जाकौ कोई नाहैं मेंटनहार॥ 10॥