भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"सफ़ेद चाँद चमक रहा है / सर्गेइ येसेनिन" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार= सर्गेइ येसेनिन |अनुवादक= |संग्रह=...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)
 
 
(इसी सदस्य द्वारा किया गया बीच का एक अवतरण नहीं दर्शाया गया)
पंक्ति 2: पंक्ति 2:
 
{{KKRachna
 
{{KKRachna
 
|रचनाकार= सर्गेइ येसेनिन
 
|रचनाकार= सर्गेइ येसेनिन
|अनुवादक=
+
|अनुवादक=अनिल जनविजय
 
|संग्रह=
 
|संग्रह=
 
}}
 
}}
पंक्ति 19: पंक्ति 19:
 
मैं नहीं पहुँचा शमशान?
 
मैं नहीं पहुँचा शमशान?
  
 +
4 / 5 अक्तूबर 1925
  
 
'''मूल रूसी से अनुवाद : अनिल जनविजय'''
 
'''मूल रूसी से अनुवाद : अनिल जनविजय'''
 +
 +
'''लीजिए, अब यही कविता मूल रूसी भाषा में पढ़िए'''
 +
            Сергей Есенин
 +
    Снежная равнина, белая луна…
 +
 +
Снежная равнина, белая луна,
 +
Саваном покрыта наша сторона.
 +
И березы в белом плачут по лесам.
 +
Кто погиб здесь? Умер? Уж не я ли сам?
 +
 +
4 / 5 октября 1925
 
</poem>
 
</poem>

14:27, 3 अक्टूबर 2018 के समय का अवतरण

सफ़ेद चाँद चमक रहा है,
बर्फ़ ढका है दुनिया का मैदान

और श्वेत कफ़न पहने
आसमान से झाँके है चन्द्रमा हैवान

श्वेत वस्त्र धारी जंगल में
सफ़ेद भोजवृक्ष खड़े रो रहे वन में

मृत्यु किसकी यह? कहीं ख़ुद ही तो
मैं नहीं पहुँचा शमशान?

4 / 5 अक्तूबर 1925

मूल रूसी से अनुवाद : अनिल जनविजय

लीजिए, अब यही कविता मूल रूसी भाषा में पढ़िए
             Сергей Есенин
    Снежная равнина, белая луна…

Снежная равнина, белая луна,
Саваном покрыта наша сторона.
И березы в белом плачут по лесам.
Кто погиб здесь? Умер? Уж не я ли сам?

4 / 5 октября 1925