भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सफ़ेद चाँद चमक रहा है / सर्गेइ येसेनिन

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 13:46, 3 अक्टूबर 2018 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार= सर्गेइ येसेनिन |अनुवादक= |संग्रह=...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सफ़ेद चाँद चमक रहा है,
बर्फ़ ढका है दुनिया का मैदान

और श्वेत कफ़न पहने
आसमान से झाँके है चन्द्रमा हैवान

श्वेत वस्त्र धारी जंगल में
सफ़ेद भोजवृक्ष खड़े रो रहे वन में

मृत्यु किसकी यह? कहीं ख़ुद ही तो
मैं नहीं पहुँचा शमशान?


मूल रूसी से अनुवाद : अनिल जनविजय