भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

समन्दर में सफ़र के वक़्त कोई नाव जब उलटी / बलजीत सिंह मुन्तज़िर

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 13:09, 25 नवम्बर 2014 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=बलजीत सिंह मुन्तज़िर |अनुवादक= |स...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

समन्दर में सफ़र के वक़्त कोई नाव जब उलटी ।
तो उस दम लोग कहते हैं नहीं मौजों की कुछ ग़लती ।

तुफ़ानी हाल तो केवल कभी बरसों में बनते हैं,
शकिस्ता[1] कश्तियाँ तो ठहरे पानी में नहीं चलती ।

करे उस पल में कोई क्या उदू[2] जब ना-ख़ुदा[3] ठहरे,
मुसाफ़िर की तो हसरत[4] ख़ुद किनारे लग नहीं सकती ।

हज़ारों बार देखी हैं भँवर में डूबती नैया,
किसी पुरवाई के रुख बदले से ही चल-निकल पड़ती ।

लहर का प्यार भी तो ज्वार-भाटे में छलकता है,
इसी से शोख़[5] साहिल[6] की कभी बाँछें नहीं खिलतीं ।

बहुत गहरा है सागर निस्बतों[7] का, डूबकर उसमें
दिले-नाकाम को सीपी वफ़ाओं की नहीं मिलती ।

सुबहा उगता है सूरज आस का फिर डूब जाता है,
किरन आसूदगी[8] की ज़हने दरिया में नहीं घुलती ।

शब्दार्थ
  1. टूटी-फूटी, थकी हुई, पुरानी
  2. दुशमन, बैरी
  3. नाविक, मल्लाह
  4. अभिलाषा
  5. चंचल
  6. किनारा
  7. रिश्ता, सम्बन्ध
  8. ख़ुशी, आनन्द