भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सरकै अँग अँग अबै गति सी / तोष

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 11:57, 3 जून 2009 का अवतरण (नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=तोष }} <poem> सरकै अँग अँग अबै गति सी मिसि की रिसकी सि...)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सरकै अँग अँग अबै गति सी मिसि की रिसकी सिसकी भरती ।

करि हूँ हूँ हहा हमसो हरिसो कै कका की सोँ मो करको धरती ।

मुख नाक सिकोरि सिकोरति भौँहनि तोष तबै चित को हरती ।

चुरिया पहिरावत पेखिये लाल तौ बाल निहाल हमै करती ।


तोष का यह दुर्लभ छन्द श्री राजुल महरोत्रा के संग्रह से उपलब्ध हुआ है।