भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सराबी सिलसिले अच्छे लगेंगे / शीन काफ़ निज़ाम

Kavita Kosh से
आशिष पुरोहित (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 14:02, 15 दिसम्बर 2010 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सराबी सिलसिले अच्छे लगेंगे
यूँ ही से वास्ते अच्छे लगेंगे

गली कूचे बड़े अच्छे लगेंगे
ये मंज़र दूर से अच्छे लगेंगे

अभी सूरज हमारे सामने है
ये किस्से दिन ढले अच्छे लगेंगे

निगाहों में अभी हैं ख़्वाब रोशन
अभी तो रतजगे अच्छे लगेंगे

हमारी ज़िंदगी की दास्ताँ में
तुम्हें कुछ वाकये अच्छे लगेंगे

इन्हें महफूज़ रखना कल तुम्हें भी
नविश्ते आज के अच्छे लगेंगे

हमारे पास क्या शोहरत, न दौलत
उन्हें हम किसलिए अच्छे लगेंगे

ज़रा दो-चार सदमे और सह लो
हमारे फ़लसफ़े अच्छे लगेंगे