भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"सवाल का जवाब था जवाब के सवाल में / अब्दुल अहद 'साज़'" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=अब्दुल अहद 'साज़' |अनुवादक= |संग्रह...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)
 
(कोई अंतर नहीं)

16:02, 24 मार्च 2020 के समय का अवतरण

सवाल का जवाब था जवाब के सवाल में
गिरफ़्त-ए-शोर से छुटे तो ख़ामुशी के जाल में

बुरा हो आईने तिरा मैं कौन हूँ न खुल सका
मुझी को पेश कर दिया गया मिरी मिसाल में

बक़ा-तलब थी ज़िन्दगी शिफ़ा-तलब था ज़ख़्म-ए-दिल
फ़ना मगर लिखी गई है बाब-ए-इन्दिमाल में

कहीं सबात है नहीं ये काएनात है नहीं
मगर उमीद-ए-दीद में तसव्वुर-ए-जमाल में

क़दीम से हटे तो हम जदीद में उलझ गए
निकल के गर्दिश-ए-फ़लक से मौसमों के जाल में