भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सिँहशमशेर र चीरहरण / महेश प्रसाई

Kavita Kosh से
Sirjanbindu (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 19:28, 19 अगस्त 2016 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार= महेश प्रसाई |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KKCa...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सबैलाई थाहा छ
सत्य निर्वस्त्र हुन्छ ।

त्यो सत्य
आजकी द्रौपदी हुन्
ती द्रौपदी निर्वस्त्र छैनन् ।

मणिमाणिक्य
हीराजवाहरात
वस्त्र आभूषण
इत्यादिले सजिएकी
द्रौपदीलाई
चौतर्फी चीरहरण गर्न
१ सय १ दुर्योधनहरूले सकेनन्
शक्तिशाली
पञ्चपाण्डवहरूले सकेनन् ।

कुन्नि यो जंगी कार्यसूचीमाथि
छलफल गर्न
उत्तराधिकारी
६ सय १ पुगेका हुन् कि !

के तिमीलाई थाहा छ ?
सिंहशमशेरको
ग्यालेरी बैठकमा
यी द्रौपदीको
चीरहरण गर्न
कुनै गुरुयोजना तयारी हुँदैछ ।