Last modified on 13 सितम्बर 2009, at 23:19

सिसक रही झुरमुट में तितली / प्रेमशंकर रघुवंशी

Dkspoet (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 23:19, 13 सितम्बर 2009 का अवतरण (नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=प्रेमशंकर रघुवंशी }} <poem> कितनी मैली कर दीं नदिया...)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)

कितनी मैली कर दीं नदियाँ
नदियों को
नहलाए कौन?
कितनी कर दी हवा प्रदूषित
साफ़ इसे
करवाए कौन?
चीर हरण किरणों का करते
अणु आयुध के दुर्योधन
प्रक्षेपण की स्पर्धा को
देखें चाँद सितारे मौन
फटे वस्त्र ओज़ोन बदन के
इस चीर पहनाए कौन?
वात पित्त कफ तीनों से ही
शापित हुई जड़ी बूटी
वन की संचित विपुल संपदा
हिंसक हाथों ने लूटी
हरियाली के गीत सभी की -
वाणी में बैठाए कौन?
सिसक रही झुरमुट में तितली
पंछी डाल-डाल रोते
डगर-डगर तत्पर बहेलिए
जाल बिछाए ही होते
झूठ मारता जब तब मौसम
फसलों को सहलाए कौन?