भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सुन मेरी मैया, मैं पडूँ तेरे पैंया / ब्रजभाषा

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 03:28, 27 नवम्बर 2015 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKLokRachna |रचनाकार=अज्ञात }} {{KKLokGeetBhaashaSoochi |भाषा=ब्रजभाष...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

सुन मेरी मैया, मैं पडूँ तेरे पैंया,
मेरो छोटौ सौ काम कराय दै,
राधा गोरी से ब्याह रचाय दै।

राधा-सी गोरी मेरे मन में बसी है,
ग्वाल उड़ावे नहीं मेरी हँसी है।
मौकूँ छोटी-सी दुल्हनियाँ लाय दै,
अपने हाथों से दुल्हा बनाय दै॥ सुन.

सेवा-वो मैया तेरी रोज करेगी,
जोड़ी तो मैया मेरी खूब जमेगी।
नन्द बाबा कूँ तू नेंक समझाय दै,
दाऊ भैया कूँ नेंक संग पठाय दै॥ सुन.

गाँव बरसानी जाकौ सब जग जाने,
गाय न चराऊं तेरी तू न मेरी मानें।
अब सोमनाथ काऊँ कूँ पठाय दै,
रमेश भैया कूँ तू बुलवाय दै॥
मेरो छोटौ सौ काम कराय दै,
राधा गोरी से ब्याह रचाय दै॥