भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"सुवागीत (बारामासी) / राकेश तिवारी" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=राकेश तिवारी |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KK...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)
 
(कोई अंतर नहीं)

23:58, 14 अगस्त 2019 के समय का अवतरण

अपन अपन घर ला लिपी-पोती डारव नारे सुवाना
के आवट हावय सुग्घर तिहार

सावन हरेली अउ राखी तिहारे नारे सुवाना
के भाई मन हा राखी बंधाय, नारे सुवाना

भादों मं तीजा-पोरा, क्वारे दसरहा नारे सुवाना
के बहिनी लिहे बर जाय, नारे सुवाना

दिन देवारी कातिक महीना नारे सुवाना
के अघ्घन मं लक्ष्मी मड़ाय, नारे सुवाना

पूसे अउ मांघे मं मातर मड़ई नारे सुवाना
के फागुन मंग रंगे उड़ाय नारे सुवाना

चईत मं रामनवमी, देबी जंवारा नारे सुवाना
के जगमग जोत जलाय, नारे सुवाना

बइसाख अउ जेठ म बरे बिहावे नारे सुवाना
के आषाढ़ मं रथे रेंगाय नारे सुवाना