भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सूरजमुखी / स्वाति मेलकानी

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 17:56, 5 अगस्त 2017 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=स्वाति मेलकानी |अनुवादक= |संग्रह= }...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुझे पसंद है
फूल सूरजमुखी का।
वह नहीं जा बैठता
पानी में
खुश्क हवाओं से डरकर
मुकाबला करता है
गर्म मौसम का
पर
अपने बदन पर
काँटे नहीं उगाता।
देखता है आसमान को
जमीन से जुड़कर
रंगो की भीड. में
नही शरमाता
सादा रंग चुनकर।
खुद निकल पड़ता है
सूरज की तलाश में।
वह नही करता
इंतजार रोशनी का
मुझे पसंद है
फूल सूरजमुखी का।