भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सूरजी- 2 / राजेन्द्र शर्मा 'मुसाफिर'

Kavita Kosh से
आशिष पुरोहित (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 11:32, 22 दिसम्बर 2017 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=राजेन्द्र शर्मा 'मुसाफिर' |अनुवाद...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सूरजी नीं तौ उगै
अर नीं बिसूंजै
नीं तौ चालै
अर नीं थमै
जुगां-जुगां सूं
वौ तौ लगौलग
करड़ी मींट सूं देखै
अंधार रै हेताळुवां नै।
जदई सईकां सूं
नीं थरपीज सक्यौ
आखी स्रस्टि
अंधार रौ राज।