भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सूरज दादा / बालकृष्ण गर्ग

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 12:24, 22 मई 2018 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=बालकृष्ण गर्ग |अनुवादक= |संग्रह=आ...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सूरज दादा लाते धूप,
दमका करता उनका रूप।
लगते सोने का-सा थाल,
सुबह-शाम दिखते हैं लाल

रोज रोशनी करते खूब,
कभी ण जाते इससे ऊब।
दिन-भर करके अपना काम,
करें रात को वे आराम।

देते हमें यही संदेश-
‘नियमित जीवन काटे क्लेश।
आलस सबसे बुरी बला,
मेहनत सबका करे भला।
[नन्हें तारे, अगस्त 1984]